UNCATEGORIZED

मौलानाओं की अपील पर कोरोना महामारी में घर के भीतर मनाया ईद-उल-फितर का त्योहार, मोबाइल पर शेयर की ईद की मुबारकबाद

4th पिलर न्यूज,गाजियाबाद
कोरोना महामारी के चलते लोगों ने घर के भीतर रहकर ही शुक्रवार को ईद-उल-फितर का त्योहार मनाया। ईदगाह व मस्जिद में नमाज अता करने के लिए कुछ चुनिंदा लोग ही पहुंचे। गुरुवार रात चांद दिखाई देने पर मौलाना ने शुक्रवार को ईद होने का ऐलान किया। उन्होंने लोगों से घर के भीतर सोशल डिस्टेंस में नमाज अता कर कोरोना संक्रमण के खात्में की दुआं मांगी। दरअसल, मुस्लिम समाज के लोगों ने सुबह फोन और व्हटसअप पर एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी। अपने-अपने घरों में युवा, बुजुर्ग और बच्चों ने ईद उल.फितर की नमाज अता की। इसके बाद सिवईया, खीर और अन्य पकवान खाए। अर्थला स्थित शिया जामा मस्जिद के मौलाना नवाजिश हुसैन ने बताया कि शालीमार गार्डन, शहीद नगर, लाजपत नगर, गरिमा गार्डन, इकबाल कॉलोनी, डीएलएफ कॉलोनी, अर्थला के लोगों ने मौलाना की अपील पर और कोरोना संक्रमण के चलते एक दूसरे से दूरी बनाकर नमाज अता हुई। सभी ने अल्लाह से कोरोना महामारी के खात्में के लिए दुआ मांगी। गरिमा गार्डन मदीना मस्जिद के मौलाना नूर मोहम्मद ने बताया कि लोगों ने घर पर ही नमाज अता कर ईद मनाई। लोगों ने हाथ व गले मिलने से गुरैज किया।
मस्जिद व ईदगाह के बाहर पुलिस तैनात
नमाज अता करने के लिए मस्जिद और ईदगाह पर भीड़ जमा न हो इसलिए पुलिस बल तैनात किया गया। सभी प्रमुख मस्जिदों के बाहर पुलिस का पहरा था। हालांकि ज्यादातर परिवारों के लोगों ने छोटे-छोटे समूहों में शारीरिक दूरी बनाकर घर पर नमाज अता की की। बिना गले मिले ही एक दूसरे को बधाई दी। वहीं, पसौंडा, गरिमा गार्डन, शालीमार गार्डन आदि काॅलोनियों के बाहर ईद के दिन सन्नाटा पसरा हुआ था। जबकि यहां हर साल ईद पर लोगों की काफी भीड़ रहती थी। कोरोना महामारी के चलते लोगों ने घर से बाहर निकलना मुनासिब नहीं समझा।
पी-टॉक
हर साल ईद पर काफी चहल-पहल होती थी। लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते पहली बार बिना गले मिले एक दूसरे को ईद की बधाई दी। देश से कोरोना खात्मे के लिए अल्लाह से दुआ मांगी।
हसन रजा जैदी, अर्थला
मैंने मौलाना की गुजारिश पर घर के भीतर ही नमाज पढ़ी। कोरोना महामारी को देखते हुए आपस में मिलना जुलना भी नहीं किया। फोन के जरिए एक-दूसरे को ईद मुबारकबाद भेजी।
सरफराज सैफी, गरिमा गार्डन
ईद पर किसी से गले नहीं मिले और हाथ नहीं मिलाया। देश में अमन शांति रहे इसके लिए अल्लाह से दुआं मांगी। घर में त्योहार भी सादगी के साथ मनाया गया।
मोहम्मद फारुख, गरिमा गार्डन

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close