दिल्लीराष्ट्रीय

दिल्ली में ऑक्सीजन सप्लाई में कालाबाजारी को लेकर हाईकोर्ट सख्त, दिल्ली सरकार को लगाई फटकार, सिस्टम को बताया पूरी तरह से फेल, सप्लायर को चेतावनी एक भी मरीज मरा तो आपको फांसी पर लटका देंगे

4th पिलर न्यूज, नई दिल्ली
राष्ट्रीय राजधानी में जारी ऑक्सीजन संकट को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार को काफी सख्त रुख अपनाया। दिल्ली सरकार को फटकार लगाते हुए कहा आपका सिस्टम पूरी तरह फेल है, किसी काम का नहीं है। सिस्टम ठीक कीजिए। अगर आपके अधिकारियों ने स्थिति को नहीं संभाल सकते तो बताइए, हम तब केंद्र के अधिकारियों को लगाएंगे। लोगों को हम मरने नहीं दे सकते। इसके अलावा कोर्ट ने दिल्ली सरकार को एक ऑक्सिजन सप्लायर के यूनिट को टेक ओवर करने का निर्देश दिया क्योंकि वह अदालत में झूठ बोल रहा था। जस्टिस विपिन सांघी और जस्टिस रेखा पल्ली की बेंच ने दिल्ली सरकार को फटकार तो लगाई ही, एक ऑक्सीजन सप्लायर पर भी बेहद सख्त रुख अपनाया। ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर एक सप्लायर के झूठ को पकड़ने के बाद हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार को उस यूनिट को टेक ओवर करने और ऑक्सीजन की जरूरत वाले अस्पतालों से उससे सप्लाई का निर्देश दिया। हाई कोर्ट ने कहा कि कल तक यूनिट का टेकओवर हो जाना चाहिए। इस पर दिल्ली सरकार ने कोर्ट को बताया कि आज ही हो जाएगा।
सप्लायर से बोला कोर्ट- हम आपको अभी कस्टडी में ले लेंगे
कोर्ट में सुनवाई के दौरान एक सप्लायर तरुण सेठ ने दावा किया कि उन्हें तो सिर्फ 4 अस्पतालों को ऑक्सीजन सप्लाई के लिए कहा गया है। सेठ ने कहा कि जब वह दिल्ली सरकार के अधिकारियों से पूछते हैं कि क्या वह सारा ऑक्सीजन इन्हीं 4 अस्पतालों को भेजें तब वे कहते हैं कि बाकी 76 को भी आपको मैनेज करना होगा। इसी बीच सप्लायर ने महाराजा अग्रसेन अस्पताल के बारे में दावा किया कि वह ऑक्सीजन नहीं ले रहे, कहते हैं कि किसी और अस्पताल को दे दें, हमें जरूरत नहीं। हाई कोर्ट ने उसके इस झूठ को पकड़ लिया। कोर्ट ने कहा कि हम आपको अभी कस्टडी में ले लेंगे।
सरकार को ऑक्सीजन सप्लाई यूनिट के टेकओवर का दिया निर्देश
हाई कोर्ट ने कहा कि इन अस्पतालों में मरीज मर रहे हैं और आप कह रहे हैं कि ये अस्पताल कह रहे हैं कि आप किसी और को दे दें क्योंकि हमें जरूरत नहीं है। हाई कोर्ट ने सप्लायर के दावों पर शक जताते हुए कहा कि वह निश्चित रूप से ब्लैक मार्केटिंग में शामिल हो सकता है। कोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा कि कल तक यह यूनिट टेक ओवर हो जानी चाहिए। इस पर सरकार ने कहा कि आज ही हो जाएगी। वहीं, जस्टिस रेखा पल्ली ने कहा कि महाराजा अग्रसेन और वैंकटेश्वरा अस्पताल को तुरंत ऑक्सीजन की सप्लाई इस यूनिट में मौजूद ऑक्सीजन से की जाए, जो इसके सप्लायर हैं। हाई कोर्ट ने हैरानी जताते हुए कहा कि तरुण सेठ बड़ा सप्लायर है यहां और दिल्ली सरकार के आदेश में उसका नाम नहीं है। हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार से कहा कि यह व्यक्ति 20 मेट्रिक टन लेकर बैठा है। हाई कोर्ट ने सरकार को हलफनामा दायर कर बुधवार तक इसका जवाब देने के लिए कहा।
सप्लायर को हाई कोर्ट की चेतावनी- एक भी मरीज मरा तो आपको लटका देंगे
हाई कोर्ट ने तरुण सेठ नाम के सप्लायर से कहा कि आप अपने अस्पतालों को ऑक्सीजन सप्लाई करिए वरना हम आपको हिरासत में ले रहे हैं। एक भी मरीज मरा तो हम आपको लटका देंगे। हाई कोर्ट ने इस सप्लायर से कहा कि आप महाराजा अग्रसेन को सात साल से ऑक्सीजन सप्लाई कर रहे हैं और आज आप किस आदेश के इंतजार में बैठे हैं।
लोगों की मौत पर आप मुनाफा कमाने में लगे हैं: हाई कोर्ट
अदालत ने कहा कि आप बहुत गैर जिम्मेदार इंसान हैं। यहां इतनी त्राहि त्राहि हो रही है। लोग ऑक्सीजन न मिलने की वजह से मर रहे हैं और आप लाभ कमाने में लगे हैं। हाई कोर्ट ने कहा कि आप की यूनिट हम टेक ओवर कर रहे हैं और इसमें दिल्ली सरकार का अधिकारी बैठेगा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close