हरियाणा

क्षत्रिय एकता मंच हरियाणा ने सम्राट विग्रहराज चौहान चतुर्थ का गौरव दिवस मनाया, डॉ बिन्ध्यराज चौहान की रचित स्मारिका का विमोचन हुआ

4th न्यूज पिलर,करनाल
राजपूत धर्मशाला सेक्टर-8 में क्षत्रिय एकता मंच हरियाणा की तरफ से सम्राट विग्रहराज चौहान चतुर्थ का गौरव दिवस मनाया गया। वक्ताओं ने कहा कि क्षत्रिय समाज यानि राजपूत समाज में एक से बढ़कर एक सम्राटों, राजा-महाराजाओं, वीर योद्धाओं और वीरांगना क्षत्राणियों ने जन्म लेकर समय-समय पर विश्व की सर्वोच्च महान संस्कृति सनातन संस्कृति का प्राणपन से निर्वहन किया। उन दिव्य आत्माओं ने धार्मिक आदेशों का स्वयं पालन किया और प्रजा को भी करवाया। उन्होंने राष्ट्र रक्षा के लिए अपना सर्वस्व बलिदान किया। महाभारत के युद्ध के पश्चात कालांतर में केंद्रीय चक्रवर्ती शासन के भंग हो जाने से स्वेच्छाचार ने जन्म लिया। जिसके तहत धार्मिक तंत्र को धर्माधिकारियों ने ही अपनी मनमर्जी से रचनात्मक रूप देना प्रारंभ किया अर्थात वैदिक सनातन संस्कृति की बहुत सी मान्यताओं को नजरअंदाज करके मनमर्जी के ग्रंथ रच डाले। जिससे हमारी सनातन संस्कृति का महान धार्मिक तंत्र छिन्न-भिन्न हो गया। मुख्य तौर पर उसी कारण से आगे चलकर यह देश गुलाम हुआ क्योंकि भिन्न-भिन्न मत बनने से राजागण भी भिन्न-भिन्न राह के राही हो गए। एक इष्ट, एक ग्रंथ परंपरा और निर्देशकों की एक परंपरा न रह पाने से फूट हो ही जाती है। देश में पहली बार राजपूत सम्राट विग्रहराज चौहान के गौरव दिवस को मनाने की परंपरा शुरू हुई है। सम्राट विग्रहराज चौहान चतुर्थ ऐसे महान सम्राट थे जिन्होंने निरंतर युद्धरत रहकर हिमालय से लेकर विंध्याचल तक भारत के सभी राजाओं को अपने अधीन करके देश को शक्तिशाली आर्य-हिंदू सत्ता के रूप में स्थापित किया। मुस्लिम शासक खुशरोशाह की विशाल सेना को बबेरक नामक स्थान पर ऐसी मात दी थी कि शत्रु थोड़ी सी बची हुई अपनी सेना को लेकर जंग के मैदान से जान बचाकर भाग खड़ा हुआ। मुख्य अतिथि के रूप में पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट के पूर्व न्यायाधीश महावीर सिंह चौहान ने शिरकत की। कार्यक्रम में सम्राट विग्रहराज चतुर्थ पर डॉ बिन्ध्यराज चौहान द्वारा लिखित तथ्यात्मक प्रमाणिक स्मारिका का विमोचन भी किया गया। कार्यक्रम के आर्गेनाइजर बलवीर सिंह चौहान ने सभी आगंतुकों का आभार जताया और मंच पर आसनी सभी अतिथियों को मोमेंटों देकर सम्मान किया गया। इस मौके पर डॉ विन्ध्यराज चौहान, बलवीर सिंह चौहान घरौंडा, डॉ सुनील राणा, एसपी चौहान, महिपाल सिंह राणा, राजेंद्र सिंह परमार, महिपाल राणा, जोगेंद्र सिंह चौहान, वीरेंद्र सिंह सालवन, वीरेंद्र सिंह राठौड़, यशपाल, मनोज राणा, सलींद्र राणा आदि मौजूद रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close