उत्तरप्रदेशराष्ट्रीय

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पंजाब पुलिस ने बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी को यूपी पुलिस के हवाले किया, व्हील चेयर पर आया यूपी का डॉन, 150 सौ पुलिस कर्मियों के काफिले के साथ आया बाहुबली विधायक अंसारी

4th पिलर न्यूज, लखनऊ
आखिर लंबी जद्दोजहद के बाद पंजाब की रोपड़ जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्ताुर अंसारी को यूपी पुलिस के हवाले कर दिया गया। अंसारी को पंजाब से यूपी की बांदा जेल लेकर लौट रही पुलिस की गाड़ियां 110 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ रही थीं। इस दौरान मथुरा एक्सतप्रेस वे पर सुरक्षा बढ़ा दी गई, काफि‍ला आगे बढ़ा तो हरियाणा पुलिस की कुछ गाड़ियां भी साथ चलने लगीं। मीडिया भी साथ-साथ चल रहा था, लेकिन मुख्तानर के काफिले में शामिल गाड़ियों की रफ्तार इतनी ज्यासदा थी कि साथ चलना मुश्किल हो रहा था। तकरीबन 150 पुलिसकर्मियों की फौज इस काफिले में चल रही है। मुख्तार अंसारी को लेकर पंजाब और यूपी सरकार के बीच अदालत में खूब जिरह हुई। फिर आखिरकार सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि मुख्तार को फौरन यूपी की बांदा जेल में शिफ्ट कर दिया जाए। कभी इस माफिया डॉन और विधायक का दबदबा ऐसा था कि एक दौर में मऊ से लेकर आसपास के सभी जिलों में मुख्तार अंसारी की तूती बोलती थी। कभी खुली जिप्सी की छत पर सवार मुख्तार अंसारी इलाके का राउंड लेता दिखाई दिया करता था। उसका जिप्सी पर सवार वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। कड़े सुरक्षा इंतजामों के बीच चलने वाले बाहुबली विधायक से मिलने और अपने कामों के लिए गुहार लगाने वाले लोगों की भीड़ उमड़ पड़ती थी। अब हालत ये है कि उसी मुख्तार अंसारी को व्हीलचेयर पर बैठे देखकर चर्चा हो रही है।
मोहम्मदाबाद का हिस्ट्रीशीटर
यूपी समेत कई राज्यों में मुख्तार के खिलाफ 50 से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं। जिनमें से 15 मुकदमे अभी भी ट्रायल पर हैं। एक दौर ऐसा था जब पूर्वांचल के तमाम जिलों में जीत हासिल करने के लिए बड़े-बड़े राजनेता मुख्तार से करीबी रखते दिखाई देते थे। मुख्तार चाहे जेल में रहे या बाहर, वो बड़ी आसानी से चुनाव जीतता रहा। मुख्तार अंसारी गाजीपुर जिले के थाना मोहम्मदाबाद का हिस्ट्रीशीटर है। उसकी हिस्ट्रीशीट का नंबर 16-बी है। योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने तो यूपी में तेजी से हालात बदलने लगे. मुख्तार और उसके मददगारों पर सख्त कार्रवाई हुई। गैरकानूनी धंधों से मुख्तार की कमाई गई संपत्ति को सरकार ने गैंगस्टर एक्ट के तहत कुर्क कर लिया। मुख्तार और उसके सहयोगियों की तकरीबन 200 करोड़ रुपए की संपत्ति अभी तक सील या जमींदोज की जा चुकी है। उसके गैंग से जुड़े लोगों की बाकि बेनामी अवैध संपत्तियों की अभी पहचान की जा रही है। अभी तक मुख्तार अंसारी गैंग के 98 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इनमें से 75 के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्यवाही हुई है। मुख्तार गैंग के 72 हथियार लाइसेंसों को रद्द किया जा चुका है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close