उत्तरप्रदेशराष्ट्रीय

महमदपुर गांव में होली के दिन जघन्य अपराध में राजपूत समाज के छह लोगों की मौत, आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने गठित की टीम, गांव में कैंप कर रही पुलिस

4th पिलर न्यूज,मधुबनी
बेनीपट्टी थाना क्षेत्र के महमदपुर गांव में होली के दिन हुए जघन्य नरसंहार के बाद तनाव की स्थिति बनी हुई है। पुलिस-प्रशासन गांव में कैंप कर रहा है। इस बीच घटना के तीन नामजद आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि, पुलिस अभी तक आरोपितों के नामों का खुलासा करने से गुरेज कर रही है। इस मामले में आठ लोगों की पहले ही गिरफ्तारी हो चुकी है। इस तरह, अब तक 11 लोगों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम बनाकर आसपास के गांवों में सघन छापेमारी कर रही है। आरोपितों के अचल संपत्ति का ब्यौरा भी पुलिस खंगालने में जुटी है। कुर्की की कार्रवाई के लिए कोर्ट से अनुरोध किया गया है। डीएसपी अरुण कुमार के अनुसार महमदपुर गांव में मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में पुलिस बल को तैनात किया गया है। विधि-व्यवस्था व शांति बनाए रखने के लिए पुलिस की तीन टीम महमदपुर, गैबीपुर, पौआम सहित अन्य गांवों में पेट्रोलिग कर सतर्कता बरत रही है। वहीं, मंगलवार की रात पुलिस की तीन टीम ने एक दर्जन गांवों में छापेमारी कर दो लोगों को गिरफ्तार किया है। बता दें कि होली के दिन महमदपुर गांव में हुई गोलीबारी की घटना में अब तक चार लोगों की मौत हो चुकी है। इस घटना को लेकर दर्ज प्राथमिकी में 35 लोगों को नामजद व एक दर्जन अज्ञात लोगों को आरोपित बनाया गया है। पुलिस की टीम थाना क्षेत्र के त्यौंथ, महमदपुर, गैबीपुर, पौआम, सेमली, गम्हरिया सहित अन्य गांवों में आरोपित को पकड़ने के लिए सघन छापेमारी कर रही है। अधिकांश घरों में ताला बंद है व सभी लोग घर से फरार हैं। प्रशिक्षु डीएसपी सह थानाध्यक्ष राकेश कुमार रंजन दल-बल के साथ महमदपुर एवं गैबीपुर गांव में गश्त लगा रहे हैं। पुलिस लगातार लोगों से शांति व्यवस्था बनाए रखने व अफवाहों पर ध्यान नहीं देने की अपील कर रही है।
राजपूत समाज की तीन दिनों में गांव से उठी छह अर्थियां
महमदपुर गांव से तीन दिनों में छह अर्थियां उठ चुकी हैं। चारों मृतक एक ही परिवार के हैं। तीन सगे भाई हैं, जबकि चौथा चचेरा भाई है। इस घटना ने लोगों को झकझोर कर रख दिया है। गांव के पूर्व सैनिक सुरेंद्र सिंह के तीन पुत्र रणविजय सिंह, विरेंद्र सिंह उर्फ वीरू व अमरेंद्र सिंह की गोली लगने से मौत हो गई है। सुरेंद्र सिंह के भाई स्व. तेज नारायण सिंह के पुत्र राणा प्रताप सिंह की भी मौत हो गई है। परिवार में चार महिलाओं की मांग उजड़ चुकी है। बच्चे अनाथ हो गए हैं। स्वजनों के आंसू रूकने का नाम नहीं ले रहे। तीन मौत तो सोमवार को ही हो गई। मंगलवार को पटना में इलाज के दौरान अमरेंद्र सिंह ने भी दम तोड़ दिया। बुधवार को अमरेंद्र का अंतिम संस्कार किया गया। एक ही परिवार में चार और कुल छह लोगों की मौत की घटना के बाद चित्कार की गूंज थम नहीं रही है। गांव की सड़कें सुनसान हैं। गांव के अधिकतर घरों में ताले झूल रह्रे हैं। गोलीबारी की घटना के बाद से गांव में दहशत का माहौल है। लोगों में घटना को लेकर आक्रोश भी है। सूत्रों के अनुसार जख्मी रुद्रनारायण सिंह की पटना में इलाज के दौरान बुधवार को मौत हो गई। हालांकि, स्थानीय पुलिस अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि करने से परहेज कर रही है। जानकारी के अनुसार घटना में जख्मी मनोज सिंह की हालत भी नाजुक बनी हुई है।
पुलिस ने तीन दिन में गिरफ्तारी का किया था दावा
मधुवनी एसपी डॉ सत्यप्रकाश ने तीन दिनों के अंदर सभी आरोपितों की गिरफ्तारी या आत्मसमर्पण नहीं होने पर उनके घरों की कुर्की करने का दावा किया था। लेकिन जघंन्य अपराध को अंजाम देने वाले आरोपित खुलेआम घूम रहे हैं। वहीं, पुलिस की भारत-नेपाल सीमा पर भी नजर बनी हुई है। महमदपुर व गैबीपुर गांव में कड़ी चौकसी बरती जा रही है। लोगों से शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close