उत्तरप्रदेश

हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की टॉपर बेटियों ने दो घंटे के लिए संभाली जिले की कमान, कोई बनी डीएम तो किसी ने संभाली थानेदार की कुर्सी

रामपुर, संवाददाता
यूपी सरकार के मिशन शक्ति कार्यक्रम के तहत शुक्रवार को टॉपर बेटियों ने जिले की कमाल संभाली। पुलिस व प्रशासन ने दो घंटे के लिए किसी बेटी को थानेदार बनाया तो कोई डीएम की कुर्सी पाकर खुश नजर आई। सुबह 10 बजे से दोपहर दो बजे तक हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की टॉपर बेटियों ने पूरी तरह से कमान अपने हाथों में ले ली।
सिविल लाइंस कोतवाली में विद्या मंदिर इंटर कालेज में कक्षा 11 की छात्रा प्रतिभा को प्रभारी बनाया गया। यहां आसपास के दूसरे थानों में प्रभारी बनी बेटियों को भी बुला लिया गया। मिशन शक्ति का आगे बढ़ाने के लिए राज्यमंत्री बलदेव औलख ने भी हिस्सा लिया। महिलाओं की सेफ्टी के लिए बनी हेल्प डेस्क का राज्यमंत्री से फीता काटकर उदघाटन कराया गया। जिसकी पूरी जिम्मेदारी प्रतिभा को सौपी गई। हालांकि बाद में राज्यमंत्री ने थाने का निरीक्षण भी किया। नई थाना प्रभारी ने राज्यमंत्री को कार्यालय समेत कंप्यूटर कक्ष, हवालात आदि के बारे में जानकारी दी। डीएम आन्जनेय कुमार सिंह और एसपी शगुन ने थाना प्रभारी बनी बेटियों के साथ वाहन चेकिंग भी कराई। पूरे जिले में डीएम और एसपी समेत करीब 65 अफसरों की कुर्सी बेटियों ने संभाली। हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की टॉपर बेटियों को डीएम, एसपी और थानेदार बनने का मौका मिला।
टॉपर बेटियों के घर पहुंची अफसरों की गाड़ियां
जिले की टॉपर बेटियों को स्कूल से चिंहित किया गया। सुबह साढ़े नौ बजे अफसर बनीं बेटियों के घर गाड़ियां पहुंच गई। मिलक के क्योरार में इकरा बी के घर डीएम की गाड़ी पहुंची और वह कलक्ट्रेट पहुंच गई। यहां पहले से ही मौजूद अपर जिलाधिकारी राम भरत तिवारी और जगदंबा प्रसाद गुप्ता ने डीएम की कुर्सी पर बैठाया। चंद मिनट बाद ही दफ्तरों में जाकर निरीक्षण किया। लौटकर करीब दो घंटे तक समस्याएं सुनीं । बिजली, राशन, मकान, जमीन और पुलिस से संबंधित 15 शिकायतें मिलीं। दो महिलाएं तो अपनी फरियाद सुनाते हुए उनके सामने रो पड़ीं। इस पर वह डीएम से बोली, ये बहुत परेशान हैं। इनकी समस्या को गंभीरता से लिया जाए। डीएम ने भी एक दिन में समाधान कराने की बात कही। तुंरत ही संबंधित अफसरों को फोन पर निर्देशित किया।
वाहन चेकिंग में वसूली पर नाराज
बेटियों ने वाहनों की चेकिंग भी की। एक बेटी ने वाहनों की चेकिंग के नाम पर पुलिस द्वारा की जाने वाली अवैध वसूली पर नाराजगी बताई। बेटी का कहना है कि उसके पिता घर आने पर रोज कहते थे कि ट्रैफिक पुलिस वाहन चेकिंग के नाम पर जगह-जगह चौराहों पर अवैध वसूली करती है।

Related Articles

Close