उत्तरप्रदेशगाज़ियाबाद

महिलाओं के साथ बढ़ रही लूट की वारदात, पुलिस अपराध पर अंकुश लगाने में नाकाम

4th पिलर संवाददाता , गाजियाबाद । जिले में घर, कालोनी और सड़क हर जगह महिलाओं के साथ लूट हो रही है। बेखौफ लुटेरे एक के बाद एक वारदात को अंजाम देकर दहशत फैला रहे हैं। पुलिस उन पर अंकुश नहीं लगा पा रही है।  आरोप है कि  रिपोर्ट दर्ज करने में आनाकानी करके कागजों में अपराध कम करने की कोशिश कर रही है। इससे पुलिस कठघरे में खड़ी हो रही है।
कहीं भी सुरक्षित नहीं महिलाएं : माह भर से कम समय के आंकड़ों की ही बात करें तो यहां घर, कालोनी, सड़क और बाजार हर जगह महिलाओं के साथ लूट हुई है। बतौर बानगी 23 सितंबर की रात लुटेरे ने इंदिरापुरम थाना क्षेत्र स्थित वसुंधरा सेक्टर-पांच में घर की पार्किंग में घुसकर आयुषी जैन से मंगलसूत्र लूट लिया। इसके एक दिन पहले 22 सितंबर को बिहारी मार्केट इंदिरापुरम के पास एचआर हेड मयूरी चौरसिया से सोने की चेन लूट ली। 15 सितंबर की रात शक्ति खंड-तीन जिम से लौट रहीं सोनिया गुलाटी से चेन लूट ली। इसके पहले कवि नगर थाना क्षेत्र स्थित राजनगर में सेक्टर-नौ पुलिस चौकी से करीब 50 मीटर की दूरी पर 31 अगस्त को चार लुटेरों ने घर में घुसकर बुजुर्ग महिला अरूणा के पैर छूए और 1.10 लाख रुपये और दो लाख के गहने लूटकर फरार हो गए।
धक्का देकर महिलाओं को पहुंचा रहे चोट : इनदिनों क्षेत्र में सक्रिय हुए लुटेरे बहुत खतरनाक हैं। लूट करने से पहले वह महिलाओं को धक्का देकर गिरा देते हैं। उसके बाद चेन, मंगलसूत्र, मोबाइल आदि लूट कर फरार हो जाते हैं। बानगी के रूप में बात करें तो लुटेरों ने आयुषी जैन और मयूरी चौरसिया को धक्का देकर लूट की थी। इसके पहले आठ सितंबर को लिंक रोड थाना क्षेत्र स्थित साहिबाबाद औद्योगिक क्षेत्र साइट चार में इंद्रप्रस्थ डेंटल कालेज की एडमिशन कोआर्डिनेटर अंकिता शर्मा को धक्का देकर मोबाइल लूटा था।
थाने के घेराव के बाद भी नहीं सुधरी स्थिति : कौशांबी थाना क्षेत्र के वैशाली में आए दिन लूट हो रही है। इसके विरोध में आरडब्ल्यूए पदाधिकारियों और स्थानीय निवासियों ने 12 सितंबर को कौशांबी थाने का घेराव किया। बावजूद इसके क्षेत्र में लूट पर अंकुश नहीं लगा। बतौर बानगी, 14 अगस्त को वैशाली में दिव्या गुप्ता से लुटेरों ने सोने की चेन लूट ली।
बढ़ते अपराध से पुलिस कठघरे में : जिले में महिलाओं के साथ लगातार लूट हो रही है। इसकी पुलिस से शिकायत हो रही है। तमाम मामले ऐसे आ रहे हैं जिसमें पुलिस रिपोर्ट दर्ज नहीं दर्ज करती है। काफी जद्दोजहद के बाद रिपोर्ट दर्ज करती भी है तो उसे ठंडे बस्ते में डाल देती है। इस वजह से न तो लुटेरे पकड़े जा रहे हैं और न ही लूट थम रही है। वहीं, लगातार हो रही लूट से पुलिस की चेकिंग और गश्त पर सवाल उठ रहे हैं। वहीं गाजियाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पवन कुमार का कहना है कि लूट पर अंकुश लगाने के लिए हर कोशिश की जा रही है। घटना स्थलों के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली जा रही है। अन्य माध्यमों से लुटेरों को पकड़ने की कोशिश हो रही है।

Related Articles

Close