गाज़ियाबाद

श्रद्धालुओं ने भगवान आशुतोष का जलाभिषेक किया, सोशल डिस्टेंसिंग व मास्क लगाकर मंदिर पहुंचे

4th पिलर न्यूज,गाजियाबाद
सावन के पहले सोमवार को श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के कपाट खोले गए। दूधेश्वर नाथ मंदिर, मोहन नगर के शिव मंदिर, शालीमार गार्डन शिवचौक के मां जगदम्बा मंदिर, श्रीराम मंदिर, श्यामपार्क एक्सटेंशन के प्राचीन हनुमान मंदिर, लाजपत नगर, वैशाली, वसुंधरा व इंदिरापुरम के मंदिरों में श्रद्धालुओं ने भगवान आशुतोष का जलाभिषेक कर विधि-विधान से पूजा अर्चना की। शिवभक्तों ने कोरोना महामारी से बचाव के लिए ईश्वर से प्रार्थना की। हालांकि कोरोना संक्रमण के डर से मंदिरों में श्रद्धालुओं की संख्या कम थी। मंदिर में पूजा पाठ करने के लिए ज्यादातर श्रद्धालु फेस मास्क लगाकर पहुंचे। हालांकि सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने में लापरवाही बरती। मोहन नगर मंदिर पर सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस बल तैनात था। साहिबाबाद एसएचओ ने टीम के साथ मंदिरों का निरीक्षण भी किया। इंदिरापुरम शक्तिखंड-3 शिव मंदिर के पंडित कुलदीप शर्मा ने बताया कि सुबह करीब 6 बजे श्रद्धालु मंदिर पहुंचे। मंदिर में श्रद्धालुओं ने मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग के साथ पूजा पाठ किया। पंडित कुलदीप शर्मा ने बताया कि अब 2, 9 और 16 अगस्त को सोमवार है। सोमवार को उपवास रखने से सालभर के व्रत के बराबर पुण्य मिलता है। जो भक्त मंदिर नहीं आ पा रहे हैं वह घर पर प्रात: काल स्नान ध्यान के उपरांत श्रीगणेश, शिव पार्वति और नंदी महाराज की पूजा अर्चना करें। प्रसाद के रूप में जल, दूध, दही, शहद, घी, चीनी, जनेउ, चंदन, रोली, बेलपत्र, भांग, धतूरा और धूप दीप से पूजा अर्चना करें। वहीं, वैशाली सेक्टर-2 के पंडित शिवकुमार शास्त्री ने बताया कि सुहागिन महिलाओं को इस दिन व्रत रखने से अखंड सौभाग्य प्राप्त होता है। क्वारी कन्याओं के लिए भी सावन के व्रत का विशेष महत्व है। सावन भगवान शिव व मां पार्वती का प्रिय महीना है इसलिए पूजा पाठ में कोई चूक नहीं करनी चाहिए।

Related Articles

Close