राष्ट्रीय

एलआईसी के आईपीओ को मिली सीसीईए की मंजूरी, मार्च 2022 तक आईपीओ लाने की पूरी तैयारी

4th पिलर न्यूज,नई दिल्ली
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2021-22 बजट पेश करने के दौरान भारतीय जीवन बीमा निगम यानी एलआईसी के मुद्दे पर बताया था कि सरकार एलआईसी में अपनी कुछ हिस्सेदारी बेचने के लिए एलआईसी का आईपीओ लाएगी। जिससे एलआईसी के मार्केट कैप में बढ़ोतरी दर्ज की जा सकेगी। वहीं, पिछले दिनों मुख्य आर्थिक सलाहकार केवी सुब्रमण्यम ने एलआईसी के आईपीओ से एलआईसी के वैल्यूएशन से जुड़ी अहम जानकारी दी थी। उसके बाद से निवेशक एलआईसी के आईपीओ का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे है। मिली जानकारी के मुताबिक आर्थिक मामलों की केंद्रीय समिति यानी सीसीईए द्वारा एलआईसी के आईपीओ के प्लान को मंजूरी मिल गई है। दरअसल, जब-जब कंपनियों को कारोबार का विस्तार करने या किसी अन्य कारण के लिए पूंजी जुटाने की आवश्यकता होती है। तब-तब कंपनियां अपना आईपीओ (Initial Public Offering) लेकर मार्केट में उतरती हैं। जिससे उन कंपनियों को पूंजी जुटाने में निवेशकों का साथ मिल जाता है। जब कंपनियां लिस्ट हो जाती हैं तब निवेशकों के साथ ही कंपनियों को भी काफी मुनाफा होता है। वहीं, अब सरकारी कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम के आईपीओ लाने की पूरी तैयारी हो गई है। फिलहाल,आईपीओ के प्लान के लिए आर्थिक मामलों की केंद्रीय समिति सीसीईए की मंजूरी भी मिल गई है।
मंत्रियों का पैनल करेगी तय
पिछले सप्ताह एलआईसी के आईपीओ को सीसीईए की मंजूरी मिलने से कंपनी का रास्ता साफ हो गया है। अब कंपनी अपना आईपीओ मार्च 2022 तक ला सकती है। फिलहाल, एलआईसी के आईपीओ के लिए केंद्र सरकार भी तैयारियों में जुट गई है। आईपीओ से जुड़ी हर चीज को मंत्रियों का पैनल तय करेगा। इसमें एलआईसी की प्राइसिंग तय करना, एलआईसी में कितना हिस्सा बेचा जाएगा, कितने शेयर बाजार में लाए जाएंगे आदि शामिल हैं। एलआईसी वर्तमान समय में अपनी वैल्यु को बढ़ाने को लेकर काम कर रही है। साथ ही इंटर्नल एफिशिएंसी और प्रोडक्ट रीस्ट्रक्चरिंग पर भी जोर दिया जा रहा है। जानकारी के मुताबक एलआईसी का आईपीओ देश का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ होगा। सरकार ने चालू वित्त वर्ष में निवेश और प्राइवेटाइजेशन के माध्यम से कुल 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है।

Related Articles

Close