UNCATEGORIZED

निगम अधिकारियों पर सेक्टर-12 की परमानंद वाटिका व ग्रीन बेल्ट से झुग्गी झोपड़ी हटाने में कार्रवाई नहीं करने का आरोप

4th पिलर न्यूज, गाजियाबाद
वसुंधरा सेक्टर-12 की ग्रीन बेल्ट और परमानंद वाटिका के आसपास झुग्गी-झोपड़ी से अतिक्रमण की समस्या है। यहां ग्रीन बेल्ट की मुख्य सड़क से लोगों का निकलना भी मुश्किल हो रहा है। आरोप है कि शिकायत के बाद भी निगम में समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। जनसुनवाई पोर्टल पर भी इसकी शिकायत की गई, लेकिन समस्या जस की तस है। फ्रेंड्स को-ऑपरेटिव सोसायटी निवासी समाजसेवी डॉ धीरज कुमार भार्गव ने बताया कि झुग्गी में रहने वाले लोग बिजली चोरी कर हीटर, पंखा, प्रेस चलाकर राजस्व को नुकसान पहुंचा रहे हैं। रोजमर्रा के काम के लिए निगम के सबमर्सिबल का पानी इस्तेमाल करते हैं। डेढ़ साल पहले ग्रीन बेल्ट पर महज दो से तीन झुग्गी थी और आज इनकी संख्या 40 के करीब पहुंच गई है। ग्रीन बेल्ट पर चारों तरफ गंदगी फैली है और महिलाएं व बच्चे खुलेआम नहाने-धोने का काम करते है। इससे आसपास के लोग खुद में शर्मिंदगी महसूस कर रहे हैं। वहीं, डॉ मनीषा का कहना है कि एक तरफ तो प्रदेश सरकार व निगम पर्यावरण को हरा भरा करने के लिए पौधरोपण अभियान चला रहे हैं। लेकिन हरी-भरी ग्रीन बेल्ट को अतिक्रमण से बचाने के लिए कोई सुनवाई नहीं हो रही है। यहां आरएचएम (रहम) फाउंडेशन ने ग्रीन बेल्ट व वाटिका में निजी खर्च पर तुलसी, आंवला, नीम, अशोक, अमरूद, कनेर आदि के 500 से अधिक पौधे लगवाए हैं। लेकिन सभी पौधे अतिक्रमण की भेट चढ़ गए हैं। झुग्गियों की तादात बढ़ने से आसपास का माहौल खराब हो रहा है। उधर, नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर ने बताया कि ग्रीन बेल्ट पर झुग्गी होने का मामला जानकारी में नहीं है। उद्यान विभाग को ग्रीन बेल्ट से अतिक्रमण हटाने के लिए निर्देशित किया जाएगा।

Related Articles

Close