राष्ट्रीय

किसान आंदोलन के 7 महीने पूरे, राष्ट्रपति और राज्यपाल को सौपेंगे ज्ञापन, दिल्ली बॉर्डर पर भारी सुरक्षा बल तैनात

4th पिलर न्यूज, नई दिल्ली
कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन के 7 महीने पूरे होने पर टिकरी बॉर्डर  पर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है और इसके मद्देनज़र ITO पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। किसान आज देशभर में राज्यपाल (Governor) को ज्ञापन देंगे। किसान नेता राजेश सिंह चौहान ने बताया कि 1साल से देश में अघोषित आपातकाल लगा है इसके विरोध में हम आज राज्यपाल के जरिए राष्ट्रपति जी को ज्ञापन सौंपेंगे क्योंकि किसानों का गेहूं मंडियों में सड़ रहा है। किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि आंदोलन को आज 7 महीने पूरे हो गए हैं, दो दिन से दिल्ली में काफी लोग आ रहे हैं। सरकार जब चाहे तब बातचीत शुरू कर सकती है, हमारा आंदोलन जारी रहेगा। महीने में दो बार लोग यहां बड़ी संख्या में ट्रैक्टर के साथ आएंगे। इस बार सहारनपुर और मुजफ्फरनगर से ट्रैक्टर आए हैं। संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को एक ज्ञापन सौंप कर तीन किसान विरोधी कानूनों को फौरन रद्द करने के लिए केंद्र को निर्देश देने का अनुरोध किया। मोर्चा ने अपने ज्ञापन के जरिए देश के करोड़ों किसान परिवारों की पीड़ा एवं गहरे रोष” से राष्ट्रपति को अवगत कराया है। केंद्र के तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनकारी किसान पिछले साल नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं। वे इन तीनों कानूनों को रद्द करने और अपनी फसल को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी देने के लिए एक नया कानून लाने की मांग कर रहे हैं।

Related Articles

Close